CSC ने महिलाओ को बनाया आत्मनिर्भर

CSC ने महिलाओ को बनाया आत्मनिर्भर 

सीएससी सेंटरों द्वारा बीसी सखी प्रोजेक्ट से जोड़ कर महिलाओं को वित्तीय समावेशन से जोड़ कर रोजगार की मुख्य धारा से जोड़ा जा रहा है। जिले में 150 के करीब महिला उद्यमी कॉमन सर्विस सेंटर का संचालन कर अपने ग्राम पंचायत में डिजिटल शिक्षा,डी जी पे , बीमा, आयुष्मान योजना, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना, प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना, किसान क्रेडिट कार्ड, एनपीएस, पैनकार्ड, समेत तमाम सेवाएं ग्रामीण महिलाओं और लोगों को उपलब्ध करा रही हैं।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सूचना और तकनीकी मंत्रालय भारत सरकार से संबद्ध संस्था सीएससी ई गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के कॉमन सर्विस सेंटरों पर महिला सशक्तिकरण में योगदान देने वाली महिलाओं को सीएससी लक्ष्मी अवार्ड प्रदान किया गया।

डी जी पे के माध्यम से महिला VLE सरकार द्वारा भेजे गये रुपयों को भी निकलकर देती है जिससे गरीव लोगो को शहरों के चक्कर लगाने नही पड़ते है 

ग्राम  पंचायत फालैन की महिला VLE दिव्या चौधरी ने बताया की सरकार गरिवो की लिए बहुत अच्छा कर रही है और सरकार द्वारा दी जा रही सहायता राशी भी गरीबो के खातो में सीधे आ रही है जिससे भ्रष्टाचार की भी सम्भावना नही है और बताया की गरीव लोग अब CSC सेंटर प्र ही आकर अपना पैसा निकलवाते है

जिला मथुरा प्रदीप दीक्षित, सुमित पचौरी व सुनील चौधरी ने बताया कि इन प्रवासी मजदूरों को ध्यान में रखते हुए  CSC केंद्रों के माध्यम से आज विभिन्न प्रकार के कौशल विकास समेत अन्य ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करने के साथ साथ ग्रामीण नौकरी वेबसाईट के माध्यम से इनका पंजीकरण कर इन्हे स्थानीय स्तर पर रोजगार प्राप्त करने में सहयोग भी किया जा रहा है।  वही अपना स्वरोजगार के इच्छुक कामगारों को   MSME योजना अन्तर्गत पंजीकरण कराकर इनके लिये ऋण लिये जाने में मदद कर रहे है।  साथ ही श्रमिकों के सरकारी लाभार्थी योजना का लाभ लिए जाने हेतु आवश्यक श्रमिक पंजीकरण भी इन्ही कॉमन सर्विस सेंटरों के माध्यम से किया जा रहा है।  कोरोना महामारी काल में  इन केन्दों का ग्रामीणों द्वारा काफी प्रसंशा की जा रही  है।

 

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments

You must be logged in to post a comment.

About Author